Currently browsing

November 2015

images

पिता

आप हंस रहे हैं ? मुझे देखकर आप क्यों हंस रहे हैं- यह मैं अच्छी तरह जानता हूं। आप मन में क्या …

अंतिम प्रवचन

बाबा सेवक दास धीरे-धीरे जीवानंद के चरण दबाते रहे। बीच-बीच में वे स्वामी जी के कृशकाय शरीर पर नजर डाल लेते। उनका …