Currently browsing category

Vigyan Diary, Page 2

Meri Vigyan Diary

21930491

फिर आया बड़ा बसंता

  बड़ा बसंता आज फिर आया। सामने ऐलेस्टोनिया के पेड़ की हरीभरी डाली पर बैठा बोलने लगा- कुटरू…कुटरू…कुटरू…कुटरू! बसंता आसपास के पेड़ों …

निराला है मशरूम

पहले तक मशरूम मेरे लिए केवल कुकुरमुत्ता था जिसे पहाड़ के मेरे गांव में च्यूं कहते थे। वहां जंगलों में बरसात के …

dscn16021122

डाक्टर कैथ

  पांच सितंबर को फेसबुक मित्र आशीष श्रीवास्तव की वाल पर कैथ और कैथ की चटनी का चित्र देखा तो मुझे मंदसौर …

398px-3836_-_amaranthus_caudatus_zieramaranth

कहां गया रामदाना

अब तो भूले-बिसरे ही याद आता है हमें रामदाना। उपवास के लिए लोग इसके लड्डू और पट्टी खोजते हैं। पहले इसकी खेती …

100_830811

सिसुणा को साग

असल में लोकोक्ति है- “मंडुवा की रोटी भली, सिसुणा को साग।” बचपन में सुना ही सुना था। सिसुणा का साग बनता बहुत …

4(69)

मंडुवा की रोटी भली

  कल मंडुवा की रोटी खाई। एक लेसुवा भी खाया। बहुत आनंद आया। दिनों-महीनों बाद मंडुवा की रोटी मिलने पर पाई हुई …

13015154_10205948307898339_7638101663022060172_n

अनोखी है हमारी सरजमीं

स्याह रातों में कभी तारों भरा आसमान देखा है आपने? अगर हां तो आसमान में आरपार फैली कहकशां और उसके चमकते बेशुमार …

12246911_10205667361394852_2256973653039738652_n

दास्तान-ए-गौरेया

आज (20 मार्च) दास्तानगोई का दिन भी है और नन्ही गौरेया का दिन भी। हमारे आसपास सदा घुंघरुओं की खनक-सी आवाज में …

12592578_10205825278582683_4913250791725764730_n

लौट आई हैं बुलबुलें

मौसमे-बहार की खबर पाकर हमारे शहर में भी लौट कर आने लगी हैं बुलबुलें। इन दिनों अलस्सुबह सन्नाटे में एक अकेली बुलबुल …

विज्ञान परिक्रमा 2015

विज्ञान परिक्रमा 2015

विज्ञान की अनेक नई विस्मयकारी खोजों से मानव जीवन तथा समाज पर विज्ञान की गहरी छाप छोड़ कर वर्ष 2015 विदा हो …