Currently browsing category

व्यक्ति विशेष

ऐसे थे भीष्म जी

  नैनीताल से एम.एस.सी. करने के बाद दिल्ली के पूसा इंस्टीट्यूट में पहली नौकरी लगी तो नौकरी की खुशी के साथ-साथ मन …

सुनो वीरेन

यार अचानक यह खबर कि, अलस्सुबह चार बजे बरेली से चले गए तुम। यकीनन नहीं लगी यकीन करने लायक। जा कहां सकने …

hqdefault

भीष्म जी के सौ वर्ष

सौ वर्ष के हो गए हैं भीष्म साहनी जी। ‘हैं’ इसलिए क्योंकि भीष्म जी जैसे लोग कभी विदा नहीं होते। वे धरती …

अंधविश्वास का अंधकार

अंधविश्वास के खिलाफ पिछले तीस वर्षों से लड़ाई लड़ रहे नरेंद्र दाभोलकर की आवाज को प्रतिगामी शक्तियों ने खामोश करने की कोशिश …