manohar-shyam-joshi

विज्ञान के मनोहरश्याम जोशी

आज (9 अगस्त) प्रसिद्ध लेखक मनोहरश्याम जोशी जी का  जन्मदिन है। विज्ञान लेखकों की जिस पीढ़ी ने सन् साठ-सत्तर में लोकप्रिय पत्रिका ‘साप्ताहिक हिंदुस्तान’ में लिखा, उन्हें उनकी यह बात शायद आज भी अच्छी तरह याद होगी कि जटिल विज्ञान भी पठनीय हो सकता है बशर्ते उसे अच्छी तरह समझ-बूझ …

Neelakurinji (2)

लो फिर बहार आई

  दक्षिण भारत में बारह वर्ष बाद फिर बहार के दिन आ गए हैं। पश्चिमी घाट की ऊंची पहाड़ियों पर प्रकृति अपनी …

images

2050 की दुनिया

  इक्कीसवीं सदी के मध्यकाल में खड़ा हूं। चकित होकर देख रहा हूं चारों तरफ कि कितनी बदल गई है यह दुनिया! …

लियोनिंड उल्कावृष्टि

वह धातु इस धरती की नहीं

यह खबर पढ़ कर मैं हैरान रह गया था कि जर्मनी के वैज्ञानिक डा. एल्मर बुकनर और उनके सहयोगी वैज्ञानिकों ने धातु …

पहरे पर टैडी

बालकनी में बिटिया की बगिया का नौ-बजिया खतरे में है। और, खतरा भी किससे? सीधे-सादे कबूतर से! पहले पता नहीं था कि …

russetsparrow_2732017_sattal_59x2751a

आओ गौरेया, आओ

12 मार्च 2010 घर कब बसाएंगी गौरेया मेरी आगे की बालकनी में रोज सुबह गौरेयां चहचहाती हैं। सुना है इनका चहचहाना शुभ …

रेन ट्री

ये ‘रेन ट्री’ हैं। इन्हें हिंदी, मराठी, बांगला भाषा में विलायती सिरिस कहा जाता है। मैंने रेन ट्री के खूबसूरत पेड़ कुछ …

13935157_10206633864516826_2637153524924582476_n

निराला है मशरूम

पहले तक मशरूम मेरे लिए केवल कुकुरमुत्ता था जिसे पहाड़ के मेरे गांव में च्यूं कहते थे। वहां जंगलों में बरसात के …