देवेंद्र मेवाड़ी और डा. सुबोध महंती

विज्ञान सरल-सहज और रोचक भाषा में लिखा जाना चाहिए – देवेंद्र मेवाड़ी

देवेंद्र मेवाड़ी से वरिष्ठ विज्ञान लेखक डा. सुबोध महंती की बातचीत सुबोध महंतीः मेवाड़ी जी, यह तो आपका हीरक जयंती वर्ष है, हार्दिक बधाई! आपने मई माह में अपने जीवन के पचहत्तर वर्ष पूरे किए और यह जानकर खुशी होती है कि आप पिछले चौवन वर्ष से विज्ञान लिख रहे …

Presentation blog

कैसी हो किसान भारती

  याद करता रहता हूं मैं तुम्हें प्रिय ‘किसान भारती’ और दुआ भी मांगता करता हूं कि तुम्हें खूब लंबी उम्र मिले। …

20190525_070935

पहाड़ में छह दिन

अगर कोई जुझारू लड़की घर में तीन-तीन दारुण त्रासदियां सह कर भी दो नन्हे बच्चों का हाथ पकड़ कर, पति भवानी शंकर …

13015154_10205948307898339_7638101663022060172_n

ऐ सरज़मीं तुझे सलाम 

स्याह रातों में कभी तारों भरा आसमान देखा है आपने? अगर हां तो आसमान में आरपार फैली कहकशां और उसके चमकते बेशुमार …

एक और युद्ध

  इस बात पर वह हैरान था। लगातार कोशिश करने पर भी नियंत्रण-कक्ष से उसका संपर्क नहीं हो पा रहा था। उसने …

pexels-photo-1024960

प्यार का राग सुनो रे ऽऽ

दो और दो आंखें चार होने पर जब मन ही मन उनमें एक-दूसरे पर न्योछावर हो जाने की अनुभूति जाग उठती है …

 आइए, सुनिए किस्सा-ए-कद

हमें खबर ही नहीं और पता लगा है, हमारी लंबाई बढ़ रही है। यह कोई सुनी-सुनाई नहीं बल्कि, जांची-परखी खबर है। खुद …